Bodhi News & Analysis - Startups AIM NITI | Elections 2017 | GST & Federalism - 16 Mar.

Ideal for Professionals, all Govt. exams, MBA ent. tests, GD-PI, school students

http://saar.bodhibooster.com, www.BodhiBooster.com, http://news.bodhibooster.com


Welcome to Bodhi News for 16 March, 2017 - from Bodhi Booster knowledge portal!


Bodhi Saar (Video) | बोधि सार (विडियो)













Highlights | मुख्य समाचार

  • [message]
    •  Highlights for 16-03-2017
        • 1. World politics – A federal judge in Hawaii issued a complete freeze on President Trump’s new executive order on travel ban on citizens of six Muslim-majority countries. The freeze  came just before the order could have banned issuance of new visas to citizens of these countries. Read our Bodhi on “Arrival of Donald Trump” here.
          2. Indian politics – BSP supremo Mayawati indicated her intentions of moving to the court on the issue of EVMs, which according to her, led to her defeat in the recent assembly elections. The BJP, on the other hand, advised her to see a doctor. BSP has also planned to observe a black day every month to protest against the “murder of democracy” by the BJP. Read our full Bodhi on analysis of the election results, here
          3. United Nations – A UN agency in its report has accused Israel of imposing an “apartheid regime” of racial discrimination on the Palestinian people. The report says, it was the first time a UN body had clearly made this charge. Read a Bodhi Saar on Israel’s settlements, here
          4. World politics – In the recently held elections in the Netherlands, incumbent Prime Minister Mark Rutte, who is considered a centre-right wing, is on course for a resounding victory against the anti-Islam and anti-EU far-right candidate Geert Wilders. A huge setback for the protectionist and nationalist surge!
          5. World economy – The US Federal Reserve raised interest rates by 25 basis points on Wednesday, the second hike in the last three months. However, there has been no change in the Fed’s re-investment policy, and it would continue to reinvest proceeds of maturing Treasury securities. The Fed release  said that any further hike in interest rates would be gradual.
          6. Indian politics – The newly formed Goa ministry of Manohar Parrikar faced the floor test in the Goa assembly, as directed by the SC, and won it with 22 votes. Congress General Secretary, and in-charge of Goa, Digvijay Singh was confident that the government would lose on the floor of the house. Meanwhile,  newly elected Punjab Chief Minister Captain Amrinder Singh’s cabinet has been sworn-in. Navjyot Singh Sidhu has been inducted as a cabinet minister.
          7. Education – India’s top IITs have given 12 Unicorn founders so far and are at number four in the world, ahead of the world’s top technology institute, MIT. Unicorns are those startups whose valuation is more than $ 1 billion. Stanford University stands at the top in this respect which has so far given 51 Unicorns. Read an interesting Bodhi Saars on startups here!
          8. Infrastructure and energy – India has fast-tracked hydropower projects worth $ 15 billion in Kashmir in the recent months, ignoring Pakistan’s warnings that power stations built on rivers flowing into Pakistan will disrupt water supplies in that country.
          9. Terrorism – Gilgit-Baltistan activist Abdul Hamid Khan has conveyed to the UN that Jamaat-ud-Daawa chief and mastermind of the 26/11 Mumbai terrorist attacks, Hafiz Saeed is enjoying the status of a “highly respected” terrorist in Pakistan. He also asserted that Pakistan was terrorising indigenous people and protecting terrorists.
          10. Science and technology – Indian scientists have recently uncovered a pair of 1.6 billion years old fossils that apparently contain red algae. They have claimed these to be the oldest plant-like life discovered on Earth. Until now, the oldest known red algae was 1.2 billion years old.
          For Running Updates on Important Themes, go here

        • 1. विश्व राजनीति – हवाई के एक संघीय न्यायाधीश ने राष्ट्रपति ट्रम्प के छह मुस्लिम-बहुल देशों के नागरिकों पर प्रतिबंध अधिरोपित करने वाले नए प्रवासन कार्यकारी आदेश पर पूर्ण स्थगिती जारी कर दी है। यह स्थगन ठीक ऐसे समय पर आया है जब यह आदेश इन छह देशों के नागरिकों के लिए नए वीजा जारी करने पर प्रतिबंध लगाने वाला था। ट्रम्प प्रशासन के लिए एक और न्यायिक आघात ! डॉनल्ड ट्रम्प के आगमन पर हमारी बोधि पढ़ें यहाँ
          2. भारतीय राजनीति – बसपा प्रमुख मायावती ने ईवीएम मुद्दे पर न्यायालय में याचिका दायर करने के संकेत दिए हैं। ज्ञातव्य है कि उन्होंने यह आरोप लगाया था कि ईवीएम में भाजपा के पक्ष में छेड़छाड़ की गई जिसके कारण उनकी पार्टी चुनाव हारी। इसपर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा ने उन्हें न्यायालय के बजाय किसी चिकित्सक के पास जाने की सलाह दी है। चुनाव २०१७ पर हमारी विस्तृत बोधि पढ़ें, यहाँ
          3. संयुक्त राष्ट्र – संयुक्त राष्ट्र के एक अभिकरण ने अपनी हाल ही में प्रकाशित रिपोर्ट में इजराइल पर फिलिस्तीनियों के विरुद्ध जातीय भेदभाव वाला “रंगभेद शासन” अधिरोपित करने का आरोप लगाया है। रिपोर्ट कहती है कि यह पहला अवसर है जब किसी संयुक्त राष्ट्र अभिकरण ने स्पष्ट रूप से इस प्रकार का आरोप लगाया है। इजराइल के रिहायशी निर्माणों पर बोधि सार पढ़ें
          4. विश्व राजनीति – नीदरलैंड्स में हाल ही में हुए चुनावों में मध्य-दक्षिणपंथी माने जाने वाले वर्तमान प्रधानमंत्री मार्क रुट्ट अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी चरम दक्षिणपंथी उम्मीदवार गीर्ट विल्डर्स के विरुद्ध भारी मतों से विजयी होने की ओर अग्रसर हैं। विश्व में वर्तमान में जारी संरक्षणवादी और राष्ट्रवादी उछाल के लिए यह एक अप्रत्याशित आघात है !
          5. विश्व अर्थव्यवस्था – अमेरिकी फ़ेडरल रिजर्व ने पिछले तीन महीनों में दूसरी बार अपने नीतिगत ब्याज दरों में 25 अधार अंकों की वृद्धि की है। हालांकि फेड की पुनर्निवेश नीति में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है, और वह परिपक्व होने वाली राजकोषीय प्रतिभूतियों के पुनार्विवेश को जारी रखेगा। फेड की घोषणा में कहा गया है कि आगे होने वाली दर वृद्धि धीमी होगी।
          6. भारतीय राजनीति – मनोहर पर्रीकर के नेतृत्व में गठित गोवा की नई सरकार सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार आज विधानसभा में विश्वास मत का सामना किया, और २२ मतों के साथ जीत गए। कांग्रेस के महासचिव और गोवा के प्रभारी दिग्विजय सिंह ने विश्वास व्यक्त किया था कि सरकार विश्वास मत प्राप्त नहीं कर पाएगी। इस बीच, पंजाब में कैप्टेन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में कांगेस सरकार ने आज शपथ-ग्रहण की। भाजपा में कांग्रेस में आए नवज्योत सिंह सिद्धू को नए मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।
          7. शिक्षा – भारत के शीर्ष आइआइटी संस्थानों ने अब तक 12 यूनिकॉर्न संस्थापक दिए हैं और इसमें वे विश्व में चौथे स्थान पर और विश्व के शीर्ष प्रौद्योगिकी संस्थान एमआईटी से आगे हैं। यूनिकॉर्न ऐसे स्टार्टअप होते हैं जिनका मूल्य 1 अरब डॉलर या उससे अधिक है। इस संबंध में स्टैंनफोर्ड विश्वविद्यालय शीर्ष स्थान पर है, जिसने अब तक 51 यूनिकॉर्न संस्थापक दिए हैं। स्टार्टअप्स पर बोधि सार पढ़ें यहाँ
          8. अधोसंरचना और ऊर्जा – भारत में कश्मीर में निर्मित होने वाले 15 अरब डॉलर मूल्य की अपनी पनबिजली परियोजनाओं की गति हाल के महीनों में काफी तेज कर दी है। उसने पाकिस्तान की इन चेतावनियों को पूरी तरह से नजरंदाज कर दिया है कि पाकिस्तान में प्रवाहित होने वाली नदियों पर विद्युत् केंद्र बनाने से उस देश की जल आपूर्ति पर प्रभाव पड़ेगा।
          9. आतंकवाद – गिलगित-बाल्टिस्तान के कार्यकर्ता अब्दुल हामिद खान ने संयुक्त राष्ट्र में यह संदेश भिजवाया है कि जमात-उद-दावा प्रमुख और 26 / 11 के मुंबई हमलों के सूत्रधार हाफिज सईद को पाकिस्तान द्वारा “अति सम्माननीय आतंकवादी” का दर्जा दिया गया है। उन्होंने यह भी कहा है कि पाकिस्तान स्थानीय लोगों में दहशत फैला रहा है और आतंकवादियों को संरक्षण दे रहा है।
          10. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी – भारतीय वैज्ञानिकों ने 1.6 अरब वर्ष पुराने जीवाश्मों की खोज की है जिसमें संभवतः लाल कवक उपस्थित है। उनका दावा है कि यह संभवतः पृथ्वी पर जीवन के प्राचीनतम साक्ष्य हो सकते हैं। इससे पूर्व पृथ्वी पर जीवन के प्राचीनतम साक्ष्य 1.2 अरब वर्ष पुराने लाल कवक को माना गया है।

          महत्वपूर्ण विषयों पर लगातार अद्यतन हेतु, यहाँ जाएँ

          [ ##thumbs-o-up##  Share Testimonial here - make our day!]     [ ##certificate##  Volunteer for Bodhi Booster portal] 


Day Facts | आज के तथ्य


[##anchor## Read Part 1 here]

  • [message]
    • Day Facts for 16-03-2017 - SCIENCE AND TECHNOLOGY – Famous scientists of India – Part 2
        • Homi Jahangir Bhabha (1909-1966) did his schooling from Cathedral & John Cannon School, Elphinston College and the Royal Institute of Science. He joined Gonvile and Caius College in Cambridge to pursue mechanical engineering. However, his mathematics tutor Paul Dirac induced his interest in mathematics and theoretical physics. In 1937, Bhabha, together with German physicist W. Heitler, solved the riddle about cosmic rays. Bhabha’s discovery of the presence of nuclear particles in the showers of electrons created by the collision of cosmic rays and the atoms of air was used to validate Einstein’s theory of relativity earned him fame worldwide. In 1940, when Bhabha was on a holiday in India, C. V. Raman persuaded him to join Indian Institute of Science (IISc) Bangalore as a Reader in physics. He was selected as Fellow of the Royal Society, London I 1941 for his contribution in the field of cosmic rays, elementary particles and quantum mechanics. Bhabha realized the need for an institute for fundamental research, and the result was the establishment of Tata Institute of Fundamental Research (TIFR) in Mumbai in 1945. In 1948, Bhabha was appointed as the Chairman of the International Atomic Energy Commission, which built various nuclear reactors under his guidance. Bhabha also served as the President of the first UN Conference on the Peaceful Uses of Nuclear Energy, held in Geneva in 1955. From 1960 to 1963, he was the President of the International Union of Pure and Applied Physics. He is also the recipient of Adam’s Award, Padma Bhushan, Honorary Fellow of American Academy of Arts and Sciences and foreign Associate of the National Academy of Sciences in the United Nations.

          Subramaniam Chandrasekhar (1910-1995), a nephew of Sir C. V. Raman, had his early education from private tutors in Lahore, and completed his secondary School education from Hindu High School, Chennai. He then joined the Presidency College and completed his Bachelor of Science degree with honours. His first scientific paper Compton Scattering and the New Statistics, was published in 1928 in the Proceedings of the Royal Society. He was accepted as a research student by R. H. Fowler at Cambridge University on the basis of his research paper. He developed the theory of white dwarf stars, showing that a star of mass greater than 1.45 times the mass of the Sun could not become a white dwarf. This limit is now called the Chandrasekhar limit. He earned his doctorate in 1933, and was awarded the Prize Fellowship at Trinity College, Cambridge. In 1937, he became a Research Associate at the University of Chicago, and became the Morton D. Hall Distinguished Service Professor in Astronomy and Astrophysics in 1952. He established the Astrophysics Journal and transformed it into the national journal of the American Astronomical Society. He was elected Fellow of the Royal Society of London, and in 1962, received the Society’s Royal medal. He also received the US National Medal of Science, and was awarded the Nobel Prize for Physics in 1983 for his theoretical work on the physical processes of importance to the structure of stars and their evolution.

          Vikram Sarabhai (1919-1971) was a keen learner and the seeds of scientific curiosity, ingenuity and creativity were sown early in his life. After completing his schooling from Gujarat, he obtained his tripos at at St. John’s College in 1939. After his return to India, he worked alongside Sir C. V. Raman in the field of cosmic rays at IISc, Bangalore. He established the Physics Research Laboratory in Ahmedabad in 1948 with Professor K.K. Ramanathan as Director. He later converted it into the cradle of the Indian Space Programme. He organized and created the ATIRA, the Ahmedabad Textile Industry’s Research Association at the age of 28, and was its Honorary Director during 1949-56. He also contributed in building and directing the Indian Institute of Management, Ahmedabad from 1962-1965. He pioneered the expansion of the Indian Space Research Organization (ISRO). India’s first satellite Aryabhata launched in 1975, was one of the many projects planned by him. He was instrumental in harnessing space science to the development of the country in the fields of communication, meteorology, remote sensing and education. The Satellite Instructional Television Experiment (SITE) launched in 1975-76, brought education to five million people in 2,400 Indian villages. He established the Community Science Centre in Ahmedabad  in 1965 to popularise science among children. He was the recipient of the Bhatnagar Memorial Award for Physics in 1962, the Padma Bhushan in 1966, and was awarded the Padma Vibhushan posthumously. He was the Chairman of the Atomic Energy Commission in 1966, Vice-President and Chairman of the UN Conference on peaceful uses of outer space in 1968, and President of the 14th General Conference of the International Atomic Energy Agency. The International Astronomical Union named a crater in the moon (in the Sea of Serenity) after him.   [##anchor## Read Part 1 here]

        • होमी जहाँगीर भाभा (1909-1966) ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा कैथेड्रल एंड जॉन केनन स्कूल, एलफिन्स्टन कॉलेज और रॉयल इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस से पूरी की। यांत्रिक अभियांत्रिकी में अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए उन्होंने कैंब्रिज के गॉन्विल एंड कैओस कॉलेज में प्रवेश प्राप्त किया। हालांकि उनके गणित के शिक्षक पॉल डिराक ने उनमें गणित और सैद्धांतिक भौतिकशास्त्र के प्रति रूचि जगाई। वर्ष 1937 में भाभा ने जर्मन भौतिकशास्त्री डब्लू. हेइट्लर के साथ मिलकर ब्रह्मांड-रश्मि से संबंधित पहेली को सुलझाया। ब्रह्मांड-रश्मि और हवा के कणों के टकराने से निर्मित होने वाली इलेक्ट्रॉन्स की बौछार में परमाणु कणों की उपस्थिति से संबंधित भाभा की खोज का उपयोग आइंस्टीन के सापेक्षता के सिद्धांत की पुष्टि के लिए किया गया। इसने उन्हें विश्व स्तर पर प्रसिद्धी दिलाई। वर्ष 1940 में जब भाभा छुट्टियों में भारत आए तब सर सी. वी. रामन ने उन्हें भौतिकशास्त्र के व्याख्याता के रूप में भारतीय विज्ञान संस्थान बैंगलोर से जुड़ने के लिए प्रेरित किया। ब्रह्मांड-रश्मि, प्राथमिक कणों, और क्वांटम यांत्रिकी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए वर्ष 1941 में वे लंदन की रॉयल सोसाइटी के फेलो चुने गए। भाभा ने बुनियादी अनुसंधान के लिए एक संस्थान की आवश्यकता को महसूस किया और इसका परिणाम वर्ष 1945 में मुंबई में टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ फंडामेंटल रिसर्च (टीआईएफआर) की स्थापना में हुआ। वर्ष 1948 में भाभा को अंतर्राष्ट्रीय आण्विक ऊर्जा आयोग का अध्यक्ष नियुक्त किया गया, जिसनें उनके मार्गदर्शन में अनेक परमाणु प्रतिघातकों का निर्माण किया। भाभा ने परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोगों पर जिनेवा में वर्ष 1955 में आयोजित पहले संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन की अध्यक्षता भी की। वर्ष 1960 से 1963 तक वे शुद्ध और अनुप्रयुक्त भौतिकशास्त्र के अंतर्राष्ट्रीय संघ के अध्यक्ष भी रहे। उन्हें एडम्स पुरस्कार, पद्मभूषण, कला एवं विज्ञान की अमेरिकी सोसाइटी के मानद फेलो और संयुक्त राष्ट्र में राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के विदेशी सहयोगी से भी सम्मानित किया गया।

          सुब्रमण्यम चंद्रशेखर (1910-1995), जो सर सी. वी. रामन के भतीजे थे, की प्रारंभिक शिक्षा लाहौर में निजी शिक्षकों द्वारा हुई, और उन्होंने अपनी माध्यमिक शिक्षा चेन्नई के हिंदू हाई स्कूल से पूर्ण की। उसके बाद उन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज में प्रवेश लिया और विज्ञानं स्नातक की उपाधि प्राविण्य के साथ पूर्ण की। उनका पहला वैज्ञानिक शोधपत्र कॉम्प्टन स्कैटरिंग एंड द न्यू स्टेटिस्टिक्स वर्ष 1928 में रॉयल सोसाइटी की प्रक्रिया के दौरान प्रकाशित हुआ। उनके इसी शोधपत्र के आधार पर आर. एच. फाउलर ने उन्हें कैंब्रिज में एक शोध विद्यार्थी के रूप में स्वीकार किया। उन्होंने श्वेत बौने तारों का सिद्धांत विकसित किया, जिसमें उन्होंने दर्शाया कि सूर्य के आयतन से 1.45 गुना बड़े आयतन का तारा एक श्वेत तारा नहीं बन सकता। इस सीमा को आज चंद्रशेखर सीमा के नाम से जाना जाता है। वर्ष 1933 में उन्होंने डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की, और वर्ष 1937 में उन्हें कैंब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज की प्रतिष्ठित फेलोशिप प्राप्त हुई। वर्ष 1937 में वे शिकागो विश्वविद्यालय में एक शोध सहयोगी के रूप में प्रविष्ट हुए और वर्ष 1952 में खगोल विज्ञान और खगोल भौतिकी के मोर्टन डी. हॉल प्रतिष्ठित प्रोफेसर बने। उन्होंने खगोल भौतिकी पत्रिका की स्थापना की और अंततः उसे अमेरिकी खगोल विज्ञान सोसाइटी की राष्ट्रीय पार्टीका के रूप में परिवर्तित किया। वर्ष 1962 में वे लंदन की रॉयल सोसाइटी के फेलो चुने गए और उन्होंने सोसाइटी का रॉयल मैडल प्राप्त किया। उन्हें संयुक्त राष्ट्र राष्ट्रीय विज्ञान मैडल भी प्रदान किया गया और वर्ष 1938 में उन्हें सितारों की संरचना और उनकी भौतिक प्रक्रियाओं पर उनके महत्त्व के सैद्धांतिक विकास के कार्य के लिए भौतिकशास्त्र का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।

          विक्रम साराभाई (1919-1971) एक उत्सुक विद्यार्थी थे और वैज्ञानिक उत्सुकता, सरलता और रचनात्मकता के बीज उनके जीवन में छोटी आयु में ही अंकुरित हुए। गुजरात से अपनी शालेय शिक्षा पूर्ण करने के बाद वर्ष 1939 में उन्होंने सेंट जॉन कॉलेज से अपनी ट्राइप्स प्राप्त की। भारत वापसी के बाद उन्होंने सर सी. वी. रामन के साथ भारतीय विज्ञान संस्थान बैंगलोर में ब्रह्मांड-रश्मि के क्षेत्र में कार्य किया। वर्ष 1948 में उन्होंने अहमदाबाद में भौतिकशास्त्र अनुसंधान प्रयोगशाला की स्थापना की जिसके निदेशक प्रोफेसर के. के. रामनाथन थे। बाद में उन्होंने इसे भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के मुख्य केंद्र के रूप में परिवर्तित कर दिया। 28 वर्ष की अल्प आयु में उन्होंने एटीआईआरए (अहमदाबाद वस्त्रोद्योग अनुसंधान संघ) का निर्माण और आयोजन किया और वर्ष 1949-1956 के दौरान वे इसके मानद निदेशक भी रहे। वर्ष 1962 से 1965 तक उन्होंने भारतीय प्रबंध संस्थान, अहमदाबाद के निर्माण और निर्देशन में भी काफी योगदान दिया। उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के विस्तार में भी अग्रणी भूमिका निभाई। वर्ष 1975 में प्रक्षेपित किया गया भारत का पहला उपग्रह आर्यभट उनके द्वारा नियोजित की गई अनेक परियोजनाओं में से एक था। देश के दूर संचार, मौसम-विज्ञान, सुदूर संवेदन, और शिक्षा के क्षेत्रों में अंतरिक्ष विज्ञान के विकास के उपयोग में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान था। वर्ष 1975-76 में प्रक्षेपित किया गया उपग्रह निर्देशात्मक टेलीविजन प्रयोग भारत के 2400 गांवों के पचास लाख लोगों तक शिक्षा को लाया। विद्यार्थियों में विज्ञान को लोकप्रिय बनाने के लिए वर्ष 1965 में उन्होंने अहमदाबाद में सामुदायिक विज्ञान केंद्र की स्थापना की। वर्ष 1962 में उन्हें भौतिकशास्त्र के लिए भटनागर पुरस्कार प्रदान किया गया, वर्ष 1966 में पद्मभूषण पुरस्कार और उन्हें मरणोपरांत पद्मविभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 1966 में वे परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष बने, वर्ष 1968 में बाह्य अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण उपयोग पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के उपाध्यक्ष और अध्यक्ष बने और अंतर्राष्टीय परमाणु ऊर्जा अभिकरण के 14 वें महाधिवेशन के अध्यक्ष बने। अंतर्राष्ट्रीय खगोल विज्ञान संघ ने चंद्रमा के एक ज्वालामुखी पर्वत के मुख (शांति के सागर में) को उनका नाम दिया है।   [##anchor## भाग १ पढ़ें यहाँ]         



          [ ##thumbs-o-up##  Share Testimonial here - make our day!]     [ ##certificate##  Volunteer for Bodhi Booster portal]

Read comprehensive Bodhis on crucial topics asked in examinations, here
ये सभी बोधियाँ हिंदी में समानांतर उपलब्ध हैं




Bodhi Shiksha | बोधि शिक्षा 

Welcome to the complete collection of all Open Videos of Bodhi Booster knowledge portal!
http://shiksha.bodhibooster.com, http://saar.bodhibooster.com


Bodhi Resources | बोधि संसाधन

Welcome to amazing downloadable and linked resources on Bodhi Resources
And don’t forget to also check English Learning resources on Bodhi Bhasha

www.BodhiBooster.com, http://hindi.bodhibooster.com, http://news.bodhibooster.com, http://bhasha.bodhibooster.com


Downloadable PDF here!  |  पीडीएफ डाउनलोड करें 











Name

Agriculture,3,Art Culture Literature,5,Bodhi News,84,Bodhi Saar,2,Bodhi Sameeksha,5,Celebrities,22,Climate change,3,Companies Products Services,37,Day Facts,82,Defence,32,Education,8,Energy,5,Governance,1,Happy New Year,1,History,2,Indian economy,42,Indian politics,35,Infrastructure,16,Law,35,Natural and other disasters,13,News Analysis,83,Personalities,2,Polity,2,Religion,5,Science and technology,14,Social issues,19,Sports,30,Terrorism,18,Trivia and miscellaneous,9,United Nations,6,World economy,10,World politics,32,World politics Terrorism,2,
ltr
item
Bodhi News: Bodhi News & Analysis - Startups AIM NITI | Elections 2017 | GST & Federalism - 16 Mar.
Bodhi News & Analysis - Startups AIM NITI | Elections 2017 | GST & Federalism - 16 Mar.
https://1.bp.blogspot.com/-X3P00uMeHAA/WH46Nykf3DI/AAAAAAAAAO8/snRg5db2WCI-31mCPo190rbM0ZIzpq43gCLcB/s320/Bodhi%2BNews%2B-%2B5%2Bfeatures.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-X3P00uMeHAA/WH46Nykf3DI/AAAAAAAAAO8/snRg5db2WCI-31mCPo190rbM0ZIzpq43gCLcB/s72-c/Bodhi%2BNews%2B-%2B5%2Bfeatures.jpg
Bodhi News
http://news.bodhibooster.com/2017/03/Bodhi-Saar-16-Mar-Civil-Services-MBA-CAT-govt.exams.html
http://news.bodhibooster.com/
http://news.bodhibooster.com/
http://news.bodhibooster.com/2017/03/Bodhi-Saar-16-Mar-Civil-Services-MBA-CAT-govt.exams.html
true
3053167486953779424
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow TO GET PDF DOWNLOAD LINK... Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy